Wednesday 25 January 2012

प्रभात 29



देखो जगत  फिर  जाग  उठा  है 
लुभाए  पंछियों  के  कलरव  हैं
जागो  मन  पंछी  फड़फड़ाये   है
जीवन  के  शेष  कर्म  बुलाये  हैं
शुभ  प्रभात 


18-10-2011

dekho jagat phir jaag utha hai
lubhaye panchhiyon ke kalrav hain
jaago man panchhi fadfadaye hai
jeevan ke shesh karm bulaye hain
shubh prabhat

1 comment: