Friday 27 January 2012

प्रभात 30


नन्हे  रवि  जागे  हैं
जगी  नई  तरेंगें  हैं
जागे  नैन  मेरे  तुम्हारे  हैं
जागी फिर   नयी 
उमंगें 
हैं
शुभ  प्रभात

19-10-2011
 
nanhe ravi jage hain
jagi nayi
tarengein hain
jaage nain mere tumhare hain
jaagi fir nayi
umengein hain
shubh prabhaat

No comments:

Post a Comment