Tuesday, 31 January, 2012

प्रभात 32




बेनिंदी आँखों को खोल दिया है
आँखों से अश्रु को पोंछ लिया है
कर प्रणाम नए दिन को, उठ चले
फिर जिंदगी की नयी राहों में चले
शुभ प्रभात


20-10-2011


benindin aankhon ko khol diya hai
aankhon se ashru ko ponchh liya hai
kar pranaam naye din ko uth chale
fir jindagi ki nayi rahon mein chale
shubh prabhat

1 comment:

  1. बहुत ही बढ़िया।

    शुभ प्रभात!

    सादर

    ReplyDelete