Monday, 31 October, 2011

प्रभात 17

हुआ उदित वो भोर का तारा
सुनहरी रश्मियों को भू पर वारा
जगा लो अपनी किस्मत का सितारा
कर प्रण स्वयं से, न कहोगे ''मैं हारा''
शुभ प्रभात


hua udit vo bhor ka tara
sunhari rashmiyon ko bhu par vara
jaga lo apni kismat ka sitara
kar pran swayam se, n kahoge''main hara''
shubh prabhat
October 3 at 10:23am
 

No comments:

Post a Comment