Monday, 31 October, 2011

प्रभात 18

प्रभु चरणों को निहार हृदय की कालिमा जाती रही

पग धरा धरा पर अवि ने निशा शेष न कुछ रही
वसुंधरा का रूप सौंदर्य जग गया, खिल गया
निर्मल हुआ जो मन, नैनों को सब भा गया
शुभ प्रभात


prabhu charanon ko nihar hriday ki kalima jati rahi
pag dhara dhara par avi ne nisha shesh n kuchh rahi
vasundhara ka roop saundarya jag gya khil gaya
nirmal hua jo man nainon ko sab bha gaya
shubh prabhat
· October 4 at 10:26am

No comments:

Post a Comment